ट्रांसजेंडर की बेबसी-ताकत की कहानी है

Posted By: Anita Mamgai Posted On: Sep 07, 2023
नवाजुद्दीन सिद्दीकी

Haddi Review: ट्रांसजेंडर की बेबसी और ताकत की कहानी है 'हड्डी', नवाजुद्दीन सिद्दीकी की दमदार एक्टिंग करती है इंप्रेस

काफी वक्त से नवाजुद्दीन सिद्दीकी की फिल्म 'हड्डी' की चर्चा हो रही थी. इंतजार खत्म हुआ फिल्म Zee5 पर रिलीज हो चुकी है. जानते हैं कि 'हड्डी' बाकी फिल्मों की कहानी से कितनी अलग है.

बचपन से लेकर अब तक हम ट्रांसजेंडर को लेकर तरह-तरह की कहानियां सुनते आए हैं. पर शायद ही कभी उन्हें करीब से जानने की कोशिश की है. वो बात अलग है कि समय-समय पर ट्रांसजेंडर की लाइफ पर फिल्में और सीरीज बनती रहती हैं. काफी वक्त से नवाजुद्दीन सिद्दीकी की फिल्म हड्डी की भी चर्चा हो रही थी. इंतजार खत्म हुआ फिल्म Zee5 पर रिलीज हो चुकी है. जानते हैं कि हड्डी बाकी फिल्मों की कहानी से कितनी अलग है.

ट्रांसजेंडर की कहानी है 'हड्डी' फिल्म इलाहाबाद के रहने वाले ट्रांसजेंडर हड्डी (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) की कहानी है, जिसको परिवार और समाज से हमेशा धितकार मिली है. समाज तो उसे जिंदा भी नहीं रहने देना चाहता, पर शायद मौत उसकी किस्मत में लिखी ही नहीं थी. इसलिए मौत के करीब पहुंचकर भी वो जिंदा बच जाता है. जिंदगी जीने की चाह थी. तभी हड्डी को अम्मा (इला अरुण) का सहारा मिलता है. अम्मा ना सिर्फ हड्डी को पढ़ाती-लिखाती है, बल्कि उसे अच्छा इंसान भी बनाती है.

अम्मा ने लाचार हड्डी की लाइफ सेट कर दी थी. वो भी आगे बढ़ने के लिए मेहनत कर रहा था. तभी उसकी जिंदगी में प्रमोद अहलावत (अनुराग कश्यप) नाम के राजनेता की एंट्री होती है. इसके बाद उसकी लाइफ की कहानी पूरी तरह बदल जाती है. प्रमोद एक लालची और मतलबी नेता होता है, जो अपने काले धंधे के जरिए नोएडा जैसी जगह को शंघाई बनाना चाहता था. प्रमोद उन लोगों में से है, जो अपने फायदे के लिए लोगों की जान लेने से नहीं चूकता है. हड्डी और प्रमोद का पुराना इतिहास भी रहा है. अब प्रमोद हड्डी पर भारी पड़ता है या हड्डी प्रमोद पर, ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी. फिलहाल की कहानी का मेन प्लॉट यही है.

कमजोर है कहानी सच बताएं तो नवाज इतने बेहतरीन एक्टर हैं कि उनकी फिल्म के बारे में लिखने या बोलने से पहले दस बार सोचना पड़ता है. हड्डी का ट्रेलर इतना दमदार था कि सबने सोच लिया था कि फिल्म काफी धांसू होने वाली है. पर मूवी देखने के बाद लगता है कि ट्रेलर में हमने जो देखा, फिल्म में उसका 10 प्रतिशत भी नहीं दिखाया गया. नवाज जैसे स्टार और गंभीर मुद्दा होने के बावजूद फिल्म काफी कमजोर लगती है.

फिल्म का फर्स्ट हाफ काफी उलझा हुआ और स्लो नजर आता है. समझ नहीं आता है कि फिल्म किस ओर भाग रही है. ना ही ये पता चलता है कि आखिर कहानी है क्या. वहीं दूसरी तरफ इसका सेकेंड हाफ इतनी तेजी से भागता है कि पता नहीं चलता मूवी कब खत्म हो गई. इसका एंड देखकर लगा कि डायरेक्टर को फिल्म खत्म करने की काफी जल्दी थी. या फिर उन्हें पिक्चर को बेहतर एंड देना ही नहीं था.

कमजोर कहानी में नवाज की दमदार एक्टिंग कहानी भले ही कमजोर है, लेकिन फिल्म में नवाज ने ट्रांसजेंडर का रोल काफी दमदार तरीके से निभाया है. कई जगहों पर उनकी अदाएं देखकर लगा ही नहीं कि वो मेल एक्टर हैं. वो अपनी बेहतरीन एक्टिंग से नॉर्मल सी कहानी में ट्विस्ट डालते दिखे. उन्हें स्क्रीन पर देखकर अच्छा लगता है. वो साड़ी पहनकर जिस तरह इतराते हैं और अपने नैनों से काम कर जाते हैं, वो देखकर साफ पता चलता है कि उन्होंने अपने रोल को घोल कर पी लिया है.

अनुराग कश्यप का क्या काम? अनुराग कश्यप कैमरे के पीछे जितना शानदार काम करते हैं. कैमरे के आगे वो उतनी ही बेकार एक्टिंग करते नजर आए. एक एक्टर की पहचान होती है कि वो शब्दों से ज्यादा अपनी आंखों से कमाल करता है. अफसोस अनुराग जितनी भी देर स्क्रीन पर रहे, सिर्फ फेक एक्टिंग करते दिखे. फिल्म में उनके अलावा सौरभ सचदेवा, जीशान अयूब और इला अरुण भी अहम भूमिका में थे, जो जितनी देर टीवी पर दिखे, अच्छा काम किया.

फिल्म में कहां रह गई कमी? हड्डी में गाने और ह्यूमर की बहुत ज्यादा कमी थी. कहानी काफी बिखरी हुई लगी. फिल्म के सीन्स को एक फ्लो के साथ सजाया नहीं गया था. नवाज की फिल्म में मीम कल्चर वाले जोक्स भी मारे गए हैं, जिन्हें सुनने में बिल्कुल मजा नहीं आता. ट्रेलर के जरिए दर्शकों को इंप्रेस करने की जितनी कोशिश की गई थी. अगर उतना फिल्म पर करते, तो बिल्कुल निराशा नहीं होती. फिल्म का डायरेक्शन भी काफी वीक लगता है.

क्यों देखें मूवीज? अगर नवाज के फैन हैं और उनकी फिल्म मिस नहीं करना चाहते हैं, तो हड्डी देख सकते हैं. पर ट्रेलर देखकर फिल्म से कोई उम्मीद लगा कर मत बैठिएगा. अगर उम्मीद लगाई, तो निराशा हाथ लगने वाली है.

Source: AajTak
Related Posts: नवाजुद्दीन सिद्दीकी

Comment on Post

Leave a comment

If you have a News HTS user account, your address will be used to display your profile picture.



नक्सलियों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही है बघेल सरकार

Posted By: Ajay Rawat Posted On: Sep 27, 2023
छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा (फाइल फोटो)

'नक्सलियों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही है बघेल सरकार', BJP ने कहा- 316 वायदों में एक भी नहीं किया पूरा

BJP Attack Congress विधानसभा चुनाव के पहले भाजपा ने छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार पर चौतरफा हमला बोला। बघेल सरकार के घोटाले घपलों भाई-भतीजाबाद और आम लोगों के केंद्रीय योजनाओं से वंचित रखे जाने को लेकर आरोपों की फेहरिस्त जारी करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर नक्सलियों के मिलकर भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कराने का आरोप लगाया।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। विधानसभा चुनाव के पहले भाजपा ने छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार पर चौतरफा हमला बोला। बघेल सरकार के घोटाले, घपलों, भाई-भतीजाबाद और आम लोगों के केंद्रीय योजनाओं से वंचित रखे जाने को लेकर आरोपों की फेहरिस्त जारी करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर नक्सलियों के मिलकर भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कराने का आरोप लगाया।

उनके अनुसार जहां एक ओर केंद्र सरकार नक्सलियों के पूरी तरह से सफाए के लिए अभियान चला रही है, वहीं दूसरी ओर बघेल सरकार नक्सलियों के सांठगांठ करने में जुटी है। उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर नक्सलियों की मदद से भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कराने का आरोप भी लगाया।

पात्रा ने कहा कि युवाओं के बेरोजगार भत्ता देने, शराब बंदी से लेकर बिजली का बिल आधा करने जैसे राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ की जनता से 316 वायदे किये थे। लेकिन इनमें एक भी वायदे को पूरा नहीं किया गया। बिजली बिल आधा होने के बजाय उल्टा दोगुना हो गया। संबित पात्रा ने बताया कि किस तरह से पिछले पांच सालों में छत्तीसगढ़ में 2161 करोड़ रुपये के शराब घोटाला, 5000 करोड़ रुपये के चावल घोटाला और 2000 करोड़ रुपये के खनिज ढुलाई घोटाला हुआ।

यह भी पढ़ें- CG Election 2023: छत्तीसगढ़ सरकार के खिलाफ 400 पन्नों की 'चार्जशीट', बघेल सरकार पर BJP ने दागे सवालों के बाण

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में केंद्र की ओर से राज्य के गरीब जनता के लिए मुफ्त चावल दिया गया था, जिसमें 5000 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है। भाजपा ने बघेल सरकार पर केंद्रीय योजनाओं के लाभ से राज्य की जनता को वंचित रखने का भी आरोप लगाया। उनके अनुसार छह हजार रूपये की सालाना सहायता वाले किसान समृद्धि योजनाओं के लिए छत्तीसढ़ के लाखों किसानों ने पंजीकरण कराया। लेकिन बघेल सरकार द्वारा सत्यापित नहीं किये जाने के कारण उन्हें इस योजना का लाभ नहीं मिल सका।

यह भी पढ़ें- 'पत्रकारों का नहीं, राहुल गांधी का बायकॉट करें' BJP ने कांग्रेस पर कसा तंज; कहा- आपके नेता में ताकत नहीं है

Source: Jagran
Related Posts:

Comment on Post

Leave a comment

If you have a News HTS user account, your address will be used to display your profile picture.



मनी अब होंगे सारे बिजनेस फेल

Posted By: Aditya Gogoi Posted On: Sep 27, 2023
इस बिजनेस में एक बार मेहनत करके आप कई सालों तक कमाई कर सकते हैं

सब बिजनेस की छुट्टी कर देगा ये बिजनेस, आ गया डीजल का पौधा, खेती करने वालों की खुल गई किस्मत

नई दिल्ली. आज हम आपको एक दमदार बिजनेस आइडिया (Business idea) के बारे में बता रहे हैं जो बंपर कमाई (Earn Money) वाला है. सबसे बड़ी बात इसमें आपको बहुत ज्यादा मेहनत भी करने की जरूरत नहीं है. ये तो सभी जानते हैं आजकल कृषि आधारित व्यवसाय तेजी से बढ़ रहा है. अगर देखा जाए, तो कृषि और उससे संबंधित व्यवसाय में ज्यादा अवसर मिलते भी हैं. इससे अधिक से अधिक मुनाफा कमाया (Profitable business) जा सकता है. एक बार यह फसल तैयार हो जाती है तो कई सालों तो आप कमाई कर सकते हैं.

हम बात कर रहे हैं डीजल की खेती की. अब आप सोच रहे होंगे डीजल की भी कोई खेती होती है. तो बता दें कि हां जी ये डीजल की ही खेती है. ऐसे तो इस पौधे का नाम जेट्रोफा (Jatropha) या रतनजोत है, लेकिन आम बोलचाल की भाषा में इसे डीजल का पौधा कहा जाता है. दरअसल, इस पौधे के बीजों से बायोडीजल निकाला जाता है और किसानों को इसकी काफी अच्छी कीमत मिलती है. इसलिए इसे डीजल की खेती कहां जाता है.

ये भी पढ़ें: सिर्फ एक तार पर कैसे चलती है ट्रेन, जबकि घरों में यूज होते हैं दो तार, आखिर कैसे इलेक्ट्रिक इंजन करता है काम?

आसान है डीजल की खेती जेट्रोफा के पौधे को कहीं पर भी उगाया जा सकता है. फिर चाहे वह बंजर जमीन ही क्यों न हो? बाजार में इसके बीज भी आराम से मिल जाते हैं तो इसके लिए भी किसानों को कोई टेंशन नहीं होती है. न ज्यादा खेत की जुताई न ज्यादा सिंचाई के लिए पानी की जरूरत होती है. बस 4 से 6 महीने की देखभाल की जरूरत होती है. एक बार जब पौधा तैयार हो जाता है तो वह सालों तक बीज देता है. ऐसे में इसकी खेती किसी भी किसान के लिए घाटे का सौदा नहीं है.

कैसे करें जेट्रोफा की खेती जेट्रोफा की खेती के लिए उष्णकटिबंधीय जलवायु की जरूरत पड़ती है. इसके साथ ही इसकी खेती के लिए आपको ऐसे खेत की जरूरत पड़ेगी जहां पानी की निकासी ठीक हो. यानी ये पौधा शुष्क क्षेत्रों में खूब होता है. जेट्रोफा के पौधे को सीधे खेत में नहीं लगाया जाता है, सबसे पहले इसकी नर्सरी लगाई जाती है फिर इसके पौधों को खेत में लगाया जाता है.

सरकार की मदद से कर सकते हैं स्टार्ट पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों की वजह से भारत समेत पूरी दुनिया में इसकी मांग बढ़ रही है. इससे प्राप्त बीजों से 25 से 30 फीसदी तक तेल निकाला जाता है जो बायोडीजल होता है. सरकार भी इसकी खेती में किसानों की मदद कर रही है.

.

Source: News18
Related Posts: BUSINESS AT SMALL LEVEL,BUSINESS IDEAS,BUSINESS OPPORTUNITIES,DIESEL,HOW TO START A BUSINESS

Comment on Post

Leave a comment

If you have a News HTS user account, your address will be used to display your profile picture.



प्रॉपर्टी फ्लैट खरीदने जा रहे हैं

Posted By: Pawan George Posted On: Sep 27, 2023
things to keep in mind before buying a flat. (Canva)

फ्लैट खरीदने जा रहे हैं? इन बातों का रखें ध्यान नहीं तो पड़ेगा पछताना, अक्सर हो जाती है लोगों से गलती

नई दिल्ली. आजकल लोग घर बसाने के लिए इंडिपेंडेंट मकान की बजाय फ्लैट्स या अपार्टमेंट्स को ज्यादा तरजीह दे रहे हैं. इसका एक बड़ा कारण यह है कि फ्लैट्स की कीमत उसी इलाके में उसी आकार के किसी मकान की तुलना में काफी कम होती है. इसके अलावा अपार्टमेंट्स अक्सर बंद गेट वाली सोसायटी में ही होते हैं और उनकी अपनी कई निजी सुविधाएं होती हैं जो लोगों को मकान में अलग से खरीदनी पड़ सकती हैं.

इसलिए फ्लैट्स लोगो की पसंद बनते जा रहे हैं. जाहिर तौर पर मकान की तुलना में इसकी अपनी कुछ कमियां भी हैं लेकिन कीमत में अंतर अक्सर उस कमी को ढक देता है. बहरहाल, अगर आप भी फ्लैट लेने के बारे में सोच रहे हैं तो जरूरी है कि आप कुछ बातों का ध्यान रखें ताकि भविष्य में आपको कोई परेशानी ना हो.

ये भी पढ़ें- ‘पारस पत्‍थर' साबित हो रहा ये म्‍यूचुअल फंड, हर साल दे रहा 20% से ज्‍यादा रिटर्न, 4 साल में ढाई गुना हो गया पैसा

बजट- सबसे पहले आप अपना बजट तय कर लें. अगर आप लोन लेकर फ्लैट खरीद रहे हैं तो उसकी ईएमआई आपको देनी होगी. इसलिए फ्लैट की कीमत इतनी ज्यादा ना हो कि ईएमआई भरने की वजह से आपके रोजमर्रा के खर्चें प्रभावित नहीं होने चाहिए. इससे आगे चलकर लोन डिफाल्ट करने की आशंका बढ़ जाती है.

लोकेशन- फ्लैट की लोकेशन बहुत महत्वपूर्ण होती है. अगर आप रेंट पर देने के लिए फ्लैट खरीद रहे हैं तो वहां आसपास में हॉस्पिटल, स्कूल, मॉल, बाजार व अन्य जरूरी सुविधाएं होना आपको बहुत अच्छा किराया दिला सकता है. इसके अलावा सेफ्टी, इंफ्रास्ट्रक्टर और अन्य दैनिक सुविधाओं को देखकर फ्लैट खरीदें.

बिजली-पानी- फ्लैट खरीदते समय यह देख लें कि वहां बिजली-पानी की सप्लाई कैसी है. किसी भी अपार्टमेंट में जहां बिजली-पानी की उपलब्धता ठीक नहीं है वहां रहना काफी चुनौती भरा हो सकता है.

ये भी पढ़ें- सब बिजनेस की छुट्टी कर देगा ये बिजनेस, आ गया डीजल का पौधा, खेती करने वालों की खुल गई किस्मत

बिल्डर की साख- किसी रेजिडेंशियल बिल्डिंग में अपार्टमेंट लेने से पहले जिस बिल्डर ने उसे बनाया उसी रेप्यूटेशन के बारे में छानबीन कर लें. इससे यह पता चल जाएगा कि उनके पिछले प्रोजेक्ट की बिल्ड क्वॉलिटी कैसी रही है. कई बार लोग इसे नजरअंदाज करते हैं और उन्हें खराब बिल्ड क्वॉलिटी वाले फ्लैट्स मिल जाते हैं.

रेरा से मान्यता प्राप्त- सभी बिल्डर्स के लिए जरूरी है कि उन्हें रेरा से सर्टिफिकेट प्राप्त हो. आपको पैसा लगाने से पहले देख लेना चाहिए कि वह प्रोजेक्ट रेरा से पास है या नहीं. वरना बाद में आपकी पूरी पूंजी भी डूब सकती है.

रीसेल वैल्यू- किसी भी अचल एसेट में पैसा लगाने से पहले यह जरूर देख लेना चाहिए कि उसकी रीसेल वैल्यू क्या रहेगी. अगर वह एरिया भविष्य में आगे बढ़ने की क्षमता रखता है तो उस फ्लैट की रीसेल वैल्यू अच्छी होगी. कोशिश करें कि इसी तरह के क्षेत्र में घर खरीदा जाए.

.

Source: News18
Related Posts: BUSINESS NEWS,BUSINESS NEWS IN HINDI,INDIAN REAL ESTATE SECTOR,PROPERTY,REAL ESTATE

Comment on Post

Leave a comment

If you have a News HTS user account, your address will be used to display your profile picture.



ETF vs Mutual Fund

Posted By: Ramesh Sharma Posted On: Sep 27, 2023
ईटीएफ के लिए कोई न्यूनतम लॉक-इन अवधि नहीं है।

ETF vs Mutual Fund: दोनों में क्या होता है अंतर, आपके लिए निवेश का कौन सा है बेस्ट ऑप्शन, जानिए पूरी डिटेल

ईटीएफ और म्यूचुअल फंड में बहुत सारी समानताएं हैं लेकिन कुछ अंतर भी हैं। ईटीएफ आमतौर पर कम शुल्क लेते हैं और स्टॉक की तरह इंट्राडे व्यापार कर सकते हैं। हालांकि म्यूचुअल फंड और ईटीएफ दोनों की विविध प्रकार की प्रकृति कम जोखिम उठाने वाले निवेशकों के लिए अच्छा ऑप्शन हो सकती है। चलिए जानते हैं ईटीएफ और म्यूचुअल फंड में क्या है अंतर।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क: ETf vs Mutual Fund Difference: आजकल निवेश करने के इतने विकल्प बाजार में मौजूद है कि ज्यादातर लोगों को यह समस्या रहती है कि आखिरकार पैसा कहां लगाएं। इन्हीं में से म्यूचुअल फंड और एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) इंवेस्टमेंट ऑप्शन भी है जिनमें काफी समानताएं हैं लेकिन दोनों के बीच अंतर भी हैं।

आज हम आपको बताएंगें की म्यूचुअल फंड और ईटीएफ में क्या अंतर होता है और आपके लिए कौन सा बेहतर है। लेकिन सबसे पहले आसान शब्दों में समझते हैं कि म्यूचुअल फंड और ईटीएफ क्या होता है।

म्यूचुअल फंड एक पेशेवर रूप से प्रबंधित निवेश योजना है, जो आमतौर पर एक एसेट मैनेजमेंट कंपनी द्वारा चलाई जाती है जो लोगों के पैसे को स्टॉक, बॉन्ड और अन्य प्रतिभूतियों में निवेश करती है।

एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) म्यूचुअल फंड और स्टॉक की विशेषताओं का एक संयोजन हैं। जैसे आप शेयर बाजार में स्टॉक को ट्रेड करते हैं वैसे ही आप ईटीएफ में भी ट्रेड कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: UIDAI चार प्रकार का जारी करता है Aadhaar Card, जानिए इनमें कितना है अंतर

यदि आप एक विविध निवेश पोर्टफोलियो बनाना चाहते हैं तो ये दोनों विकल्प आपको एक अच्छा ऑप्शन बन सकते हैं। समय अवधि, जोखिम उठाने की क्षमता और वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर, आप यह तय कर सकते हैं कि आपके लिए कौन सा बेहतर है। कुछ निवेशक लॉन्ग टर्म निवेश की तुलना में लिक्विड निवेश को अधिक प्राथमिकता देते हैं।

Disclaimer: (ये जानकारी प्राप्त सूचनाओं पर आधारित है, कृप्या निवेश करने से पहले विशेषज्ञों की राय जरूर लें और अपने जोखिम पर ही निवेश करें।)

ये भी पढ़ें: कार्यकाल बढ़ाए बिना कैसे कम करें Home Loan का EMI, क्या है इसका आसान तरीका?

Source: Jagran
Related Posts:

Comment on Post

Leave a comment

If you have a News HTS user account, your address will be used to display your profile picture.



Government Loan Schemes

Posted By: Aditya Gogoi Posted On: Sep 27, 2023
प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत भी आपको कोलैटरल फ्री लोन मिलता है

Government Loan Schemes: बिजनेस शुरू करने के लिए सरकार देती है कई तरह के लोन, कम ब्याज पर मिलते हैं पैसे

Government Business Loan भारत सरकार ने स्टार्टअप्स और मौजूदा कंपनियों को अपना संचालन जारी रखने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए प्रभावी कदम उठाए हैं जिससे आपके स्टार्टअप या व्यवसाय में निरंतर नकदी प्रवाह सुनिश्चित हो सके। चलिए जानते हैं ऐसे 6 सरकारी स्कीम के बारे में जिनकी मदद से आप अपने बिजनेस या स्टार्टअप में कैशफ्लो को बरकरार रखने में सहायता प्रदान करता है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क: पिछले कुछ साल में भारत में उद्यमियों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। साफ है कि लोग अब खुद का बिजनेस करने में रुचि दिखा रहे हैं।

किसी भी बिजनेस या स्टार्टअप के लिए पैसा उतना ही जरूरी है जैसे व्यक्ति के लिए भोजन। इसी को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने पिछले कुछ साल में स्टार्टअप्स और मौजूदा व्यवसायों को अपना परिचालन जारी रखने के लिए मौद्रिक सहायता देने के लिए प्रभावी कदम उठाए हैं जिससे आपके स्टार्टअप या बिजनेस में निरंतर कैशफ्लो बना रहे।

आज हम आपको ऐसी 6 सरकारी स्कीम के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपके स्टार्टअप या मौजूदा बिजनेस में निरंतर कैशफ्लो को बरकरार रखने में मदद मिल सकती है।

एमएसएमई को उनकी वर्किंग कैपिटल की जरूरतों को पूरा करने में मदद करने के लिए, सरकार ने एमएसएमई लोन स्कीम को शुरू किया है। इस स्कीम के तहत, कोई भी नया या मौजूदा उद्यम 1 करोड़ रुपये तक का लोन प्राप्त कर सकता है।

आमतौर पर, लोन की प्रक्रिया पूरी होने में लगभग 8-12 दिन लगते हैं और लोन के लिए दिए गए आवेदन की स्वीकृति/अस्वीकृति में मात्र 59 मिनट का ही समय लगता है।

ये भी पढ़ें: ETF vs Mutual Fund: दोनों में क्या होता है अंतर, आपके लिए निवेश का कौन सा है बेस्ट ऑप्शन, जानिए पूरी डिटेल

सीजीटीएमएसई (सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट) काफी लंबे समय से एमएसएमई के लिए कोलैटरल फ्री लोन की सुविधा प्रदान कर रहा है। सीजीटीएमएसई योजना बिना किसी कोलैटरल के 10 लाख तक का वर्किंग कैपिटल लोन प्रदान करती है।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना मुख्य रूप से महिला उद्यमियों, सेवा और व्यापार से संबंधित उद्यमों आदि के लिए उपयुक्त है। इस योजना के तहत भी आपको कोलैटरल फ्री लोन मिलता है जिसमें देनदार को रिपेमेंट की अवधि बढ़ाने का सुविधा मिलती है।

कोई बिजनेस फर्म मुद्रा लोन योजना के लिए तीन श्रेणियों में आवेदन कर सकता है:

शिशु मुद्रा लोन- इस योजना के तहत 50,000 रुपये तक का लोन 1 से 2 प्रतिशत के सालाना ब्याज दर पर दिया जाता है।

किशोर मुद्रा लोन- इस योजना के तहत 5 लाख रुपये तक का लोन 8.60 से 11.15 प्रतिशत के सालाना ब्याज दर पर दिया जाता है।

तरूण मुद्रा लोन- इस योजना के तहत 5 लाख रुपये से अधिक से लेकर 10 लाख रुपये तक का लोन 11.15 से 20 प्रतिशत के सालाना ब्याज दर पर दिया जाता है।

ये भी पढ़ें: UIDAI चार प्रकार का जारी करता है Aadhaar Card, जानिए इनमें कितना है अंतर

इस योजना के तहत दो तरह के लोन दिए जाते हैं:

मार्केटिंग सहायता योजना: इस स्कीम के तहत मिलने वाली राशि का उपयोग आप अपनी प्रतिस्पर्धात्मकता और अपनी पेशकशों के बाजार मूल्य को बढ़ाने के लिए कर सकते हैं। इससे व्यवसाय को बढ़ावा देने, मार्केटिंग और बाजार तक पहुंच बढ़ाने में काफी मदद मिल सकती है।

क्रेडिट सहायता योजना: इस योजना के तहत कच्चे माल की खरीद, वित्त, मार्केटिंग आदि के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त की जा सकती है।

यह बिजनेस के लिए एक सरकारी सब्सिडी क्रेडिट है जो उन लोगों के लिए अच्छा है जिन्हें उद्योगों में तकनीकी प्रगति के लिए पैसों की आवश्यकता होती है। तकनीकी प्रगति में मार्केटिंग, आपूर्ति श्रृंखला, विनिर्माण आदि शामिल हो सकते हैं।

सिडबी यानी भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक है। इसे सरकारी व्यवसाय लोन प्रदान करने वाली सबसे पुरानी संस्थाओं में से एक माना जाता है। सिडबी लोन मुख्य रूप से एमएसएमई व्यवसायों को मदद देता है जिन्हें पैसों की सख्त जरूरत होती है।

Source: Jagran
Related Posts:

Comment on Post

Leave a comment

If you have a News HTS user account, your address will be used to display your profile picture.



आज ही निपटा लें ये 5 जरूरी काम

Posted By: Anita Mamgai Posted On: Sep 27, 2023
30 सिंतबर है इन पांच कामों की डेडलाइन

आज ही निपटा लें ये 5 जरूरी काम... वरना हो सकता है नुकसान, 30 सितंबर है डेडलाइन

अगर आपके पास अभी भी सर्कुलेशन से बाहर किए गए 2,000 रुपये के गुलाबी नोट मौजूद हैं, तो फिर इन्हें बदलने के लिए भी आपके पास 30 सितंबर 2023 तक का ही समय है. यानीचार दिनों में अगर इन नोटों को नहीं बदला गया तो फिर ये रद्दी के समान हो जाएंगे.

सितंबर का महीना खत्म होने वाला है और इसमें महज चार दिन का समय बचा हुआ है. इसके साथ ही कई फाइनेंशियल काम ऐसे हैं, जिन्हें 30 सितंबर 2023 (September 2023) तक पूरा करना जरूरी है. अगर इन कामों को तय डेडलाइन तक पूरा नहीं कर पाते हैं, तो फिर आपको वित्तीय परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. इनमें सर्कुलेशन से बाहर किए गए 2,000 रुपये के नोट वापस करने से लेकर एसबीआई वी केयर एफडी स्कीम (SBI WeCare FD Scheme) में निवेश करने के लिए भी बस चार दिनों का ही समय बचा हुआ है.

2000 रुपये के नोटों की वापसी के लिए डेडलाइन अगर आपके पास अभी भी सर्कुलेशन से बाहर किए गए 2,000 रुपये के गुलाबी नोट मौजूद हैं, तो फिर इन्हें बदलने के लिए भी आपके पास 30 सितंबर 2023 तक का ही समय है. यानी चार दिनों में अगर इन नोटों को नहीं बदला गया तो फिर ये रद्दी के समान हो जाएंगे. गौरतलब है कि केंद्रीय बैंक ने बीते 19 मई 2023 को 2,000 रुपये के नोट को सर्कुलेशन से बाहर कर दिया था और बाजार में मौजूद इन नोटों को बैंकों के जरिए वापस लौटाने के लिए 30 सितंबर की तारीख तय की थी, जो अब करीब है. हालांकि, मार्केट में मौजूद कुल नोटों में से 93 फीसदी नोट 31 अगस्त 2023 तक आरबीआई के पास वापस आ चुके थे.

स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स के लिए आधार अपडेट सितंबर का महीना पोस्ट ऑफिस की स्माल सेविंग स्कीम्स (Post Office Small Saving Schemes) में निवेश करने वालों के लिए भी खास है. दरअसल, अगर आप भी इन सरकारी योजनाओं पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) और सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) समेत अन्य में इन्वेस्टमेंट कर रहे हैं, तो फिर 30 सितंबर तक आधार नंबर अपडेट कराना जरूरी है. अगर आप तय डेडलाइन तक यह काम नहीं कर पाते हैं, तो फिर आपके निवेश पर रोक लग सकती है या फिर अकाउंट फ्रीज भी किया जा सकता है. वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) की ओर से पहले ही इस संबंध में एक नोटिफिकेशन जारी किया जा चुका है.

बैंक लॉकर के लिए एग्रीमेंट पर साइन एसबीआई, बैंक ऑफ बड़ौदा समेत अन्य बैंकों में लॉकर लेने वाले ग्राहकों के लिए भी अलर्ट है, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के दिशा-निर्देशों के मुताबिक, बैंक लॉकर लेने वाले ग्राहकों को नए एग्रीमेंट पर साइन करना जरूरी है. यदि आपका भी इन बैंक में लॉकर है, तो फिर आप भी 30 सितंबर 2023 तक बैंक लॉकर एग्रीमेंट पर साइन कर लें. अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो फिर आपको Bank Locker छोड़ना पड़ सकता है. कई बैंकों ने तो अपने यहां लॉकर लेने वाले ग्राहकों को एसएमएस के माध्यम से अलर्ट भेजना भी शुरू कर दिया है. सभी बैंकों को 31 दिसंबर तक यह काम पूरा करने का आदेश दिया गया है. इसके तहत बीते 30 जून 2023 तक 50 फीसदी, 30 सितंबर तक 75 फीसदी और 31 दिसंबर तक 100 फीसदी ग्राहकों के साइन बैंक लॉकर एग्रीमेंट पर करवाए जाने जरूरी किए गए हैं.

SBI WieCare स्कीम में निवेश इन जरूरी कामों के अलावा फिक्स्ड डिपॉजिट यानी FD में निवेश करने वाले इन्वेस्टर्स के लिए भी एसबीआई की वीकेयर स्कीम (SBI WeCare Scheme) में निवेश करने का आखिरी मौका है. स्टेट बैंक की ये स्पेशल एफडी स्कीम है, बुजुर्गों को आम निवेशकों से 1% ज्यादा ब्याज ऑफर किया जाता है. मौजूदा समय में SBI की वीकेयर स्‍कीम पर 7.50 फीसदी तक का ब्‍याज मिल रहा है. एसबीआई की रेगुलर एफडी में ब्याज दरें 7 दिनों से लेकर 10 सालों तक की अवधि के लिए 3.50 फीसदी और 7.50 फीसदी के बीच है. SBI की ये एफडी स्कीम 30 सितंबर 2023 को बंद होने वाली है. ऐसे में इस स्कीम का लाभ जितना जल्दी उठाएं उतना ही फायदा है, कहीं मौका हाथ से निकल न जाए.

LIC धन वृद्धि प्लान होगा बंद देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम की एक शानदार पॉलिसी 30 सितंबर 2023 को बंद हो रही है. इस पॉलिसी का नाम एलआईसी धन वृद्धि (LIC Dhan Vriddhi) है. यह एक एकल प्रीमियम पॉलिसी है, जो पॉलिसीधारकों को गारंटेड रिटर्न देती है. इस स्कीम में आप प्रोटेक्शन और सेविंग कर सकते हैं, यानी आपको बीमा तो मिलता ही है, आपका पैसा भी बढ़ता है. आपको इस पॉलिसी में केवल एक बार ही निवेश करना है जिसके बाद आपको आजीवन इस योजना का लाभ मिलेगा।

Source: AajTak
Related Posts: भारतीय रिजर्व बैंक

Comment on Post

Leave a comment

If you have a News HTS user account, your address will be used to display your profile picture.

POPULAR News

icon
दुनिया भारत को एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम की रूस जल्द करेगा डिलीवरी, यूक्रेन युद्ध के कारण देरी होने की थी आशंका
icon
बिज़नेस भारतीय रेलवे ₹21,500 में 11 दिन का टूर पैकेज, पुरी से लेकर अयोध्‍या-काशी तक की करें सैर
icon
वायरल Elvish Yadav के सपोर्ट में उतरीं एक्स गर्लफ्रेंड कीर्ति, अभिषेक मल्हान को बताया इनसिक्योर, सुनाई खरी खोटी
icon
खेल IND vs NEP: Shreyas Iyer की जगह होगी SKY की वापसी? नेपाल के खिलाफ इस Playing 11 के साथ उतर सकती है Team India
icon
बिज़नेस मनी भारत में अमेरिका और चीन के बाद सबसे अधिक यूनिकॉर्न, देखें टॉप-5 देशों की लिस्ट
icon
बिज़नेस Gold Price Today: सोना खरीदने से पहले चेक कर लें रेट, आज महंगा हुआ गोल्ड और सिल्वर
icon
टेक्नोलॉजी Restore Recently Deleted Apps: गलती से कर बैठे Smartphone से काम का ऐप डिलीट, इस ट्रिक की मदद से करें रिस्टोर
icon
टेक्नोलॉजी 108MP कैमरा और 16GB रैम वाले realme 11 5G की पहली सेल आज, जानें ऑफर डिटेल्स
icon
राजनीति 'मानसिक दिवालियापन और हिंदूफोबिया को दर्शाती है ए राजा का बयान', धर्मेंद्र प्रधान बोले- सनातन शाश्वत और सत्य
icon
वायरल Vijay Deverakonda ने किया 100 परिवारों को एक करोड़ देने का एलान, फ्लॉप फिल्म के निर्माता ने की ये मांग
icon
बिज़नेस मनी फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर पर लगाम लगाएगा SEBI, निवेशकों को मिलेगी मदद
icon
बिज़नेस भारत को स्थानीय मुद्रा में लोन देने पर विचार कर रहा वर्ल्ड बैंक, कर्ज की लागत कम करने में मिलेगी मदद
icon
दुनिया China Population: घटती जनसंख्या ने चीन को चिंता में डाला, अब शादी करने के लिए जोड़ों को पैसे बांट रही सरकार!
icon
Science जैसलमेर में मिला 16.7 करोड़ साल पुराना डायनासोर का जीवाश्म, नाम है 'थारोसोरस इंडिकस'
icon
वायरल Jailer Box Office Collection Day 1: रजनीकांत की मूवी ने आते ही जमाई धाक, 'गदर 2' के लिए सेट किया बड़ा बेंचमार्क
icon
वायरल बॉलीवुड दमदार रहा Gadar 2 का तीसरा दिन, की बंपर कमाई, 100 करोड़ के पार पहुंचा कलेक्शन
icon
वायरल OMG 2 Box Office Collection: सनी देओल के आगे फीके पड़े अक्षय कुमार, पहले दिन की शुरुआत महज इतने करोड़ से
icon
Science जैसलमेर में मिला 16.7 करोड़ साल पुराना डायनासोर का जीवाश्म, नाम है 'थारोसोरस इंडिकस'